होलिका दहन – जश्न का पर्व

कहते हैं होलिका दहन के दिन तीन चीजों का होना काफी शुभ माना जाता है. ये तीन चीजें हैं प्रदोण काल का होना, पुर्णिमा तिथि का होना… Read more “होलिका दहन – जश्न का पर्व”

जौ के ठेकाने ना, सतुआने के तैयारी – भोजपुरी व्यंग्य -एन डी देहाती

14 अप्रेल 17 के सतुआन ह। अब लखनऊआ , दिल्लिहिया कहि दिहे सतुआन का होला। पुरबिहन से पूछ ल। सतुआन के पुरवर परिभाषा बता दीहें। सतुआ भी… Read more “जौ के ठेकाने ना, सतुआने के तैयारी – भोजपुरी व्यंग्य -एन डी देहाती”

प्रेरक संस्मरण – पंडित दीनदयाल उपाध्याय

किसी ने सच ही कहा है कि कुछ लोग सिर्फ समाज बदलने के लिए जन्म लेते हैं और समाज का भला करते हुए ही खुशी से मौत… Read more “प्रेरक संस्मरण – पंडित दीनदयाल उपाध्याय”

विक्रम संवत और शक संबत

ये दोनों ही संवत शकों पर भारतीय चक्रवर्ती राजाओं की विजय के स्मारक हैं। विक्रम संवत 57 ईपू सम्राट विक्रमादित्य द्वारा शकों पर जीत के उपलक्ष में… Read more “विक्रम संवत और शक संबत”

भगवान श्री कृष्ण के जीवन सी जुड़ी 24 अनसुनी बातें

1. भगवान श्री कृष्ण के खड्ग का नाम ‘नंदक’, गदा का नाम ‘कौमौदकी’ और शंख का नाम ‘पांचजन्य’ था जो गुलाबी रंग का था। 2. भगवान् श्री… Read more “भगवान श्री कृष्ण के जीवन सी जुड़ी 24 अनसुनी बातें”

कुंडली में मांगलिक ‍दोष से डरें नही

जीवन साथी के चयन के लिऐ ग्रह मेलापक (गुण-मिलान) की चर्चा होती है,तो मांगलिक विचार पर खासतौर पर विचार करते है,समाज मे मांगलिक दो  का हव्वा इतनी… Read more “कुंडली में मांगलिक ‍दोष से डरें नही”

आइये मनाये सार्थक दीपावली

पटाखो कि दुकान से दूर हाथों मे, कुछ सिक्के गिनते मैने उसे देखा… एक गरीब बच्चे कि आखों मे,मैने दिवाली को मरते देखा. थी चाह उसे भी… Read more “आइये मनाये सार्थक दीपावली”

अपनी संस्कृति को पहचाने ।

संस्कृति किसी समाज में गहराई तक व्याप्त गुणों के समग्र रूप का नाम है, जो उस समाज के सोचने, विचारने, कार्य करने, खाने-पीने, बोलने, नृत्य, गायन, साहित्य,… Read more “अपनी संस्कृति को पहचाने ।”

हनुमान जयंती – आज भी जीवित हैं हनुमान

कहते है पवनपुत्र हनुमान जैसा कोई नहीं, भक्त तो कई है लेकिन जो बात रूद्र अवतार हनुमान जी में हैं वो किसी में नहीं। भगवान शिव के… Read more “हनुमान जयंती – आज भी जीवित हैं हनुमान”

राम नवमी की सभी दोस्त पाठकों को अनेक शुभकामनायें!

त्रिस्थिरस्त्रिप्रलम्बश्च  त्रिसमस्त्रिपु चोन्नतः  त्रिताम्रस्त्रिपु च स्निग्धो गंभीरस्त्रिषु नित्यशः  त्रिवली मांस्त्रयंवतः ………………….सुन्दरकाण्ड ३५/१७-१८ आप सभी को भगवान श्रीराम के जन्मोत्सव रामनवमी की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाये. आपके अमूल्य… Read more “राम नवमी की सभी दोस्त पाठकों को अनेक शुभकामनायें!”

पुण्य और परिवर्तन का पर्व – मकर सक्रांति

मकर संक्रांति अनेकता में एकता का पर्व मकर सक्रांति के दिन भगवान् भास्कर अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उसके घर जाते हैं चूंकि शनि देव मकर… Read more “पुण्य और परिवर्तन का पर्व – मकर सक्रांति”

खुद को दुर्घटना से बचाइए दूसरो की रक्षा स्वयं हो जाएगी…… नजर निल्को की

जीवन में कई बार दुर्घटनाए होती है। जिसमें कभी शरीर तो कभी दिल टूट जाता है। आष्चर्य की बात यह है कि आप भले ही कितने सर्तक… Read more “खुद को दुर्घटना से बचाइए दूसरो की रक्षा स्वयं हो जाएगी…… नजर निल्को की”

बात बात पर अवरोध क्यों की हम स्वतंत्र है – एम के पाण्डेय ‘निल्को’

  बात-बात पर अवरोध,क्योकि हम स्वतंत्र हैं।  एम.के.पाण्डेय “निल्को”       नगर निगम ने कई दिनों से मोहल्लों का कचड़ा नहीं उठाया,लोगो ने रोड जाम कर दिया। गुस्सा… Read more “बात बात पर अवरोध क्यों की हम स्वतंत्र है – एम के पाण्डेय ‘निल्को’”

विजयी के सदृश जियो रे

वैराग्य छोड़ बाँहों की विभा संभालो चट्टानों की छाती से दूध निकालो है रुकी जहाँ भी धार शिलाएं तोड़ो पीयूष चन्द्रमाओं का पकड़ निचोड़ो चढ़ तुंग शैल… Read more “विजयी के सदृश जियो रे”

पापा के आज जन्मदिन पर ……….

पूर्वाञ्चल का भोजपुरिया लाल – एन.डी. देहाती   नर्वदेश्वर पाण्डेय (एन.डी. देहाती) पूर्वाञ्चल की धरती पर अनेक ऐसे लाल हुये है जो देश के साहित्यिक  क्षैतिज पर ध्रुवतारे… Read more “पापा के आज जन्मदिन पर ……….”