ज़िंदगी तेरे नख़रे भी हजार है

ज़िंदगी तेरे नख़रे भी हजार है  क्यों तुम्हे दर्द से इतना प्यार है  कलम लिखने को बहुत बेक़रार है  क्योंकि इश्क खुद ही आज बीमार है  ज़िंदगी… Read more “ज़िंदगी तेरे नख़रे भी हजार है”

कौन है यह चोटीकटवा ? जानें पूरा सच…!

बीते कई दिनों से चर्चाओं में आए चोटी कटवा को लेकर हर कोई सच्चाई जानना चाहता है । हर कोई जानना चाहता है कि आखिर क्या है… Read more “कौन है यह चोटीकटवा ? जानें पूरा सच…!”

कृष्ण जन्माष्टमी

आदरणीय मित्रो ;नमस्कार;मेरी पहली भक्ति रचना  “कान्हा ओं कान्हा” आप सभी को सौंप रहा हूँ । मुझे उम्मीद है कि  मेरी ये छोटी सी कोशिश आप सभी को जरुर पसंद आएँगी,  रचना… Read more “कृष्ण जन्माष्टमी”

सूखा लोगों द्वारा ही पैदा किया गया?

प्रकृति और प्राणी दोनों ही एक दूसरे के सहचर हैं। दोनों मे से किसी एक के भी द्वारा पैदा किए गए असन्तुलन से दोनों को ही अस्वाभाविक… Read more “सूखा लोगों द्वारा ही पैदा किया गया?”

शौक रहा दिल को उनके गुलाब लिखने का

“शौक रहा दिल को उनके गुलाब लिखने काबेदम से गुलशन में बेबस शबाब लिखने का “लकड़ियाँ चुन लाये मन की अलाव जलानेफिर भी न मिटा खुमार किताब… Read more “शौक रहा दिल को उनके गुलाब लिखने का”

रातों के आईने को, मेरा सलाम करना

तेरे प्यार के महल में, वादे तमाम करना हो जाऊँ कैद उसमे ,कुछ इंतजाम करना धड़कन की हो दीवारें,साँसों की हो कतारेंसो जाऊं मैं सुकूँ से,दिले-एहतिमाम करना                                  … Read more “रातों के आईने को, मेरा सलाम करना”