मूर्खों की फेहरिस्त – अकबर बीरबल के किस्से

बादशाह अकबर घुड़सवारी के इतने शौकीन थे कि पसंद आने पर घोड़े का मुंहमांगा दाम देने को तैयार रहते थे। दूर-दराज के मुल्कों, जैसे अरब, पर्शिया आदि… Read more “मूर्खों की फेहरिस्त – अकबर बीरबल के किस्से”

खाली सीट को फिर से तलाशने लगी थीं उसकी बूढ़ी निगाहें।

स्टैण्ड पर बस के आते ही सवारियों के साथ मैं भी उसमें चढ़ने की कोशिश करने लगा। बड़ी जद्दोजहद के बाद आखिर बस में चढ़ पाने में… Read more “खाली सीट को फिर से तलाशने लगी थीं उसकी बूढ़ी निगाहें।”

लोगों की नौटंकी और बहकावे पर मत जाओ… और…. "गर्व से कहो हम हिन्दू हैं"

Siddharth Singh हिन्दुत्व को प्राचीन काल में सनातन धर्म कहा जाता था। हिन्दुओं के धर्म के मूल तत्त्व सत्य, अहिंसा, दया, क्षमा, दान आदि हैं जिनका शाश्वत… Read more “लोगों की नौटंकी और बहकावे पर मत जाओ… और…. "गर्व से कहो हम हिन्दू हैं"”

आरक्षण का बंटवारा—- दबे पांव

A.K.Pandey देश में आजकल मानों सांप सूंघा हुआ है। केन्द्र सरकार, राज्य सरकारें और देश के विभिन्न उच्च न्यायालय, उच्चतम न्यायालय अपनी-अपनी भाषा में आरक्षण के मुद्दे… Read more “आरक्षण का बंटवारा—- दबे पांव”

राहुल कोई भगवान राम नहीं है

 राहुल कोई भगवान्  राम नहीं है . लेकिन गोरखपुर में आये तो आमी के प्र्दुसन से त्रस्त लोगो ने उसी तरह गुहार लगाई  <उतराई नाहीं चाही, पनिए… Read more “राहुल कोई भगवान राम नहीं है”

शर्महीन शहर क संवेदनहीन घटना

             शर्महीन शहर येह मामला में कि सड़क पर झपट्टा मारन के संख्या बढ़ गइल बा। कानून के ठेंगा देखावत झपट्टामार माई–बहिन की गले से चेन, मंगलसूत्र… Read more “शर्महीन शहर क संवेदनहीन घटना”