"क़दम मिला कर चलना होगा"

बाधाएँ आती हैं आएँघिरें प्रलय की घोर घटाएँ,पावों के नीचे अंगारे,सिर पर बरसें यदि ज्वालाएँ,निज हाथों में हँसते-हँसते,आग लगाकर जलना होगा।क़दम मिलाकर चलना होगा।हास्य-रूदन में, तूफ़ानों में,अगर… Read more “"क़दम मिला कर चलना होगा"”

मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें

 आज मकर संक्रांति है। हवा में घुली है पतंगों की शोखी। क्या बच्चे और क्या जवान, सभी छतों पर हैं। राजस्थान की राजधानी जयपुर मे आज का… Read more “मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें”

अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें

आप मेरे ब्लाग पर पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, और ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान… Read more “अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें”

मेहनत मे है सफलता की मिठास

आप मेरे ब्लाग पर पधारें व अपने अमूल्य सुझावों से मेरा मार्गदर्शऩ व उत्साहवर्द्धऩ करें, और ब्लॉग पसंद आवे तो कृपया उसे अपना समर्थन भी अवश्य प्रदान… Read more “मेहनत मे है सफलता की मिठास”

भारत के महान संत स्वामी विवेकानंद की आज जन्मतिथि है

भारत के महान संत स्वामी विवेकानंद की आज जन्मतिथि है. दुनियां भर के युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत रहे स्वामी विवेकानंद आज भी बहुत से लोगों के… Read more “भारत के महान संत स्वामी विवेकानंद की आज जन्मतिथि है”

फिर स्वतंत्रता का कोई अर्थ नहीं रह जाता |

ईश्वर ने हर एक को स्वतंत्रता प्रदान की है, अत: यदि कोई पुरुष भौतिक भोग करने का इच्छुक है और इसके लिए देवताओं से सुविधाएं चाहता है… Read more “फिर स्वतंत्रता का कोई अर्थ नहीं रह जाता |”

वन्दे मातरम् – बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय

वन्दे मातरम्सुजलां सुफलां मलयजशीतलाम्शस्य श्यामलां मातरं | शुभ्र ज्योत्स्ना पुलकित यामिनीम्फुल्ल कुसुमित द्रुमदलशोभिनीम्,सुहासिनीं सुमधुर भाषिणीम् .सुखदां वरदां मातरम् .. वन्दे मातरम् सप्त कोटि कण्ठ कलकल निनाद करालेनिसप्त… Read more “वन्दे मातरम् – बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय”

लोटा तो पीतल का है, जुलाहे का नहीं

कबीर गंगा के घाट पर थे। उन्होंने एक ब्रम्हांड को किनारे पर हाथ से अपने शरीर पर पानी डालकर स्नान करते देखा तो अपना लोटा देते हुए… Read more “लोटा तो पीतल का है, जुलाहे का नहीं”

मां ब्रह्मचारिणी

VMW Team   नवरात्रि के दूसरे दिन(29 सितंबर, गुरुवार) मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होती है। देवी ब्रह्मचारिणी ब्रह्म शक्ति यानि तप की शक्ति का प्रतीक हैं। इनकी आराधना… Read more “मां ब्रह्मचारिणी”

कृष्ण कन्हाई –मंगल विजय,अखण्ड ज्योति

कन्हाई की याद कब आओगे ? कृष्ण कन्हाई ।फिर से श्याम घटा घिर आई ।।1।। भोगवाद की सघन-घटायें।भादों के घन-सी मंडराएँ॥कैसी अन्धियारी घिर आई।कब आओगे ? कृष्ण… Read more “कृष्ण कन्हाई –मंगल विजय,अखण्ड ज्योति”